प्रशासनिक कारणों से 37 वें ऑनलाइन ई-नीलामी को रोक दिया गया है

Doordarshan will conduct 27th online e-Auction for filling up of "Vacant DTH slots"
प्रशासनिक कारणों से 37 वें ऑनलाइन ई-नीलामी को रोक दिया गया है

“इसके द्वारा सभी निजी प्रसारकों को सूचित किया जाता है कि 37 वें ऑनलाइन ई-ऑउक्डशन को प्रशासनिक कारणों के कारण आगे आदेश तक रोक दिया गया है।
निजी ब्रॉडकास्टर्स को सलाह दी जाती है कि डीटीएच स्लॉट के ई-ऑउक्डशन की अधिक स्थिति / जानकारी के लिए नियमित रूप से वे दूरदर्शन की वेबसाइट चेक करते रहे।
दूरदर्शन की वेबसाइट : “www.ddindia.gov.in/Technical/pages/DD-Free-Dish-(DTH).asps.”

Advertisements

———————————————————————old update ——————————

दूरदर्शन डी डी फ्रीदिश संपन्न करेगा अपनी 37th ऑनलाइन नीलमी (DD Free Dish 37th Online eauction) डी डी फ्री डिश डी टी एच के खाली पड़े टीवी चैनल्स स्लॉट के लिए. पर इस बार की नीलामी में ख़ास बात ये ही की इसमें किसी भी न्यूज़ चैनल के भाग लेने की अनुमति नहीं ही.
इस बार की नीलामी में वही टीवी चैनल्स भाग लेगे जो टीवी चैनल्स सूचना और प्रसारण मंत्रालय में ” Non-news & current affirs” केटेगरी में रजिस्टर्ड है. इन चैनल्स को सालाना स्लॉट फीस Rs.8.00 crores चुकाने होंगे.

ये नीलमी की प्रक्रिया गुरुग्राम की कंपनी M/s C1 India pvt ltd. द्वारा की जाएगी. अतः जो भी प्राइवेट टीवी चैनल डी डी फ्री डिश पर जुड़ना चाहता है वो डी डी इंडिया की ऑफिसियल वेबसाइट से ज्यादा जानकारी ले सकते है.

इस प्रक्रिया में भाग लेने की अतिम दिनांक २२ अगस्त २०१७ मंगलवार दोपहर १२.०० बजे तक ही है. जो भी चैनल इस नीलामी में अपना स्लॉट जीतते ही तो उन्हें अपना सॅटॅलाइट रिसीवर (सेट टॉप बोक्स) सॅटॅलाइट पैरामीटर के साथ दूरदर्शन भवन में ज़मा करना होगा.

बहुत ही जल्द ३७वी नीलामी का रिजल्ट यहाँ घोषित करेंगे. अगर आपके मन में कोई भी प्रतिक्रिया ही तो उसे कमेंट सेक्शन से पंहुचा सकते है. इस जानकरी को अपने मित्रो के साथ फेसबुक य ट्विटर पर अवश्य साझा करे.

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 2,663 other subscribers

Originally posted 2017-08-07 06:26:46.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.